अलवर

अमिताभ दीक्षित,एडिटर-ICN ग्रुप

तमाम उम्र

ज़िन्दगी की ख़ाक छानता

वक़्त से बातें करता

एक बूढ़ा झुर्रियोंदार चेहरा

उदासी की देहरी लांघती आंखों में

सपने जैसा बसा

यह शहर अलवर

अंधियारी रात में

दूर टिमटिमाता दिया

एक पूरी दास्तान छिपाये है

अपने पीछे एक अलसाये लावण्य की,

वीरता की और रंगभरी मस्तियों की

ख़ामोशी जब ख़ुद से बातें करती है

तभी यह शहर अचानक नींद से जाग उठता है

सुर्खियां इसकी आदत में शुमार नहीं

सुबह की पहली किरण के साथ

तेज़ हो जाती हैं कुयें की धिर्री की आवाज़ें

फिर ज़िन्दगी की मोटी रस्सी पर

चूड़ियों से सजी कलाइयों की पकड़

मज़बूत होने लगती है

सिरों की परवाह किए बगैर

यह शहर ज़िन्दगी से सीधे बतियाता है

कहते हैं यह शहर बूढ़ा हो गया

पर मुझे तो अभी भी जवान लगता है

एकदम तरोताज़ा – उम्र में बूढ़ा होने के बावज़ूद

Uncategorized

Related posts